एक बहन का अंतिम सलाम ........


                                  मेरे प्यारे देशभक्त भाई बहनों चार जून का काला सच हम सब से छुपा नहीं | इस सच को भारत का हर नागरिक जानता है | देशवासियों देश का  एक महान व्यक्तिव जो आज किसी से छुपा नहीं है  वो हैं परम पूजनीय योग ऋषि स्वामी रामदेव जी | इनके सानिध्य में चलाये जा रहे आंदोलन में मैं भागीदार थी और भारत में रहने वाले कुछ गद्दार लोगो कि वजह से आज मुझको ये दुनिया छोड़नी पड़ रही | मेरे भाई और बहनों आज ये शरीर साथ नहीं दे रहा है इस कारण मुझे तो जाना पड़ रहा है ,लेकिन आखिरी समय में आप से  बहुत कुछ कहना चाहती हूँ | भाई और बहनों मेरी विदाई से आप सब कि आँखे नम हैं | आप कुछ बोल भी नहीं पा रहे हैं | मुझे मालुम है कि अपनों से बिछुड़ने का दर्द सबको को होता है ,मुझे भी है और मेरे से पहले जिन देश भक्तों ने अपनी कुर्बानी दी थी उनको भी था लेकिन इस देश कि माटी का कर्ज जो था वो उन्होंने चुकाया था उसी परम्परा को आज मैं निभाने चली हूँ | आप बिलकुल भी निराशा का भाव अपने मन में मत आने देना और हाँ , रोना तो  बिलकुल भी नहीं | अगर आप आत्मग्लानी से भर जाओगे तो पूज्य गुरुदेव स्वामीजी के सपनो को साकार कौन करेगा ........उनकी जिमेदारी भी तो आपके कंधो पर ही है | भाई बहनों इस बात का ध्यान पूरी तरह से रखना कि स्वामीजी के खिलाफ ये गद्दार किसी भी हद तक जा सकतें है |इसलिय हर कदम उठाते हुए इस बात का पूरी तरह खयाल रखना है कि स्वामीजी पर कोई भी आँच न आ पाए और मेरे प्यारे देश भक्तों अगर फिर से देश में कहीं भी इन भ्रष्ट लोगो के खिलाफ आंदोलन कि जरूरत पड़े तो पीछे मत हटना | इस बात का खयाल तो कभी भी मन में नहीं लाना कि जान चली जायेगी | एक बात को हमेशा याद रखना कि मातृभूमि कि सेवा करने के लिय अगर जान कि बाजी भी  लगानी पड़े तो वो भी कम है | आज मुझे इस बात का गर्व है कि मैं राष्ट्र के आंदोलन का हिस्सा बनी |परन्तु यह  कहते हुए भी बहुत शर्म और अफ़सोस है कि मैं उस देश कि वासी हूँ जहाँ सबसे शीर्ष पद महिला आसीन है और उस देश में देश भक्त महिलाओं पर अत्याचार होता है और उनको जान गवांनी पड़ती है |..मेरे देश कि उन सत्ताओं से कुछ प्रश्न हैं जो मैं आपके माध्यम से कहना चाहती हूँ कि आज मैं तो इस दुनिया से चली जाऊँगी लेकिन सत्ताओ पर बैठे ये लोग जिनकी वजह से रामलीला मैदान ये कांड हुआ|......... वे आने वालें कुछ ही चन्द दिनों में आपके दरवाजे पर वोट कि भीख मांगने|..और इस वहम में डूब के मत रहना कि ये देश के निती निर्धारक है ..ये जैसा कह रहे है वो सब कर देंगे .|इस बात को याद रखना किये अब क्या ख़ाक करेंगे जो 63 सालों में ही नहीं कर पायेंगे ....... तब उनको आपको जबाब देना है | अगर आपने उदासीनता दिखाई और इनको अपनी ताकत से जबाब नहीं दिया तो न जाने कितनी और राजबालाओं को अपने प्राण न्यौछावर करने पड़ेंगे |
आपकी ये छोटी सी पहल कई घरों में रोशनी ला सकती हैं ...........तो  आओ इस दर्द  को बहुत सहा जा चुका है अब और न सहते हुए इनको जबाब दें और देश भक्त लोगों को चुने व् उनका साथ  ताकि फिर से किसी घर कि राजबाला को इस दुनिया से न जाना पड़े | किसी के घर के चिराग न बुझ पायें  | मेरे देशभक्त भाइयों मुझे मालुम है कि आप अपनी इस बहन कि पुकार को सुन करके इस बहन कि अंतिम इस इच्छा रूपी राखी का फर्ज जरुर निभाओगे और मैंने आपसे जो कुछ कहा है उसको बिना देरी किये हुए करोगे  | वैसे तो मुझे मेरे भाई बहनों पर कोई शक नहीं है फिर भी एक बात कहना चाहती हूँ कि इस दौरान आपके सामने लोभ , लालच , व् आसुरी शक्तियाँ भी आएँगी |लेकिन उनसे घबराना नहीं और स्वामीजी कि तरह अपने लक्ष्य पर अडिग रहना तुम्हे सफलता जरुर मिलेगी |  ...बहुत देर हो चुकी है ..अंत समय नजदीक है .....आपसे बाते करते हुए अब मेरा शरीर इतना साथ नहीं दे रहा है कि आप से कुछ और कह पाऊं ....अब मैं चलने से पहले इतना ही कहना चाहूंगी कि मुझे मालुम है कि आपको मेरी याद रुलाई लाएगी परन्तु इसका मतलब यह नहीं है कि आप याद मत  करना ...याद जरुर करना ...और आपने मुझसे  जो राखी का वादा किया है वो जरुर निभाना .....अब मैं चलती हूँ  एक बार फिर पूज्य गुरुदेव स्वामी रामदेव जी के चरणों में प्रणाम  करती हूँ कि उस दिव्य हस्ती  के व्यवस्था  परिवर्तन क्रांति  का मैं एक छोटा सा हिस्सा बनी जो किस्मत वालों को ही नसीब हुआ करता है .........उनसे जो सिखने को मिला उसमे से कहना चाहती हूँ कि सच्चाई से कभी समझौता नहीं करना .................   अलविदा ....................
                                                                                                
                                                                                                   आपकी  बहन 
                                                                                                     राजबाला    



( बहन राजबाला जी के जाने कि सुचना  जैसे ही मैंने टीवी पर सुनी उसके बाद मेरी भावनाओं ने जैसा महसूस किया उनको मैंने आपको प्रस्तुत किया और मुझे विश्वास है कि राजबालाजी कि भी अंतिम भावनाएं यही रहीं होंगी ..उनकी शहादत हम सबको यही सन्देश दे रही है )

Comments

  1. .

    आपके आलेख ने आँखों में आँसू ला दिए। बहन राजबाला का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा । हम उनके साथ किये गए गए अंतिम वादे को ज़रूर निभायेंगे। ४ जून की दुखद घटना को भुलाया नहीं जाएगा। दोषियों का बहिष्कार होगा। बहन राजबाला को विनम्र श्रद्धांजलि।

    .

    ReplyDelete
  2. तरुण भाई, आपकी यह post पढ़ कर गला भर आया है|
    माँ राजबाला, आप अमर हैं| आपका यह बलिदान हम व्यर्थ नही जाने देंगे| जिस उद्देश्य के लिए आपने शहादत पाई है, उसे अब हम पूरा करेंगे|
    माँ राजबाला आप ही हमारी भारत माँ हैं|

    तरुण भाई, नमन आपको| आपने आँखें गीली कर दीं|

    ReplyDelete
  3. भाई तरुण आपका लेख तो समय पर ही पढ़ लिया था परंतु अपनी प्रतिक्रया देने में असफल रहा ! तो आज समय लगाकर बहन राजबाला की इस शाहदत को पढ़ा तो आँखों में आंसू आ गए ! हम प्राण लेते हैं की बहन राजबाला का ये बलिदान व्यर्थ नहीं जाने देंगे ! पापियों को घोर सजा मिलेगी ! इस बहन के दर्द को हम सभी लोगों तक आपका आभार उम्मीद करती हूँ की हमेशा की तरह आगे भी इस तरह राष्ट्रवादियों पर हो रहे हिंसक अत्याचारों के प्रति अपनी कलम चलाते रहोगे !

    ReplyDelete
  4. bht dukh hua ki aaj hamari ma saman rajbalaji nhi rahi unko shat shat naman...... aur rahi un papiyo ki baat jo aaj tak har gunah kr ke bach gye najane kitni rajbalao ko mar diya inhone najane kitne ramdev baba ke vicharo jaise vyaktiyo ko mar diya inhone kya kuch ho skta h inka afjal aur kasab jaiso ko kuch nhi hua phr inka koi kya bigad skta h

    ReplyDelete
  5. तरुण जी ,आपका लेख पढ़कर मुझे याद आया कि अब व्यवस्था परिवर्तन का समय आ गया हैं ,क्योकि अत्याचार कि भी एक चरम सीमा होती हैं ,माता राजबाला जी कि शहादत व्यर्थ नहीं जायेगी ,इस देश में क्रांति आएगी और आप जैसे वीरों कि इस देश को जरुरत हैं .............याचना नहीं अब रण होगा ,संघर्ष बड़ा भीषण होगा

    ReplyDelete
  6. ab to mousi ki post hi gharon m samapt ho rahi hai.karva chouth ka vart rakh kar koun lammbi umar ki dua manfegi..thanx

    ReplyDelete
  7. आपकी ख्यालात से पूरी तरह सहमत
    मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं आपके साथ हैं !
    देर से आने के लिए माफ़ करें बहुत ही मार्मिक पोस्ट!
    राजबाला जी की शहादत बेकार नहीं जायेगी
    इस नकारा सरकार के अंतिम दिन नजदीक आ गए हैं
    और इसकी सफलता के लिए हम सब को एक विचार हो कर संघर्ष करना होगा

    ReplyDelete

Post a Comment